What is Network in Computer? कंप्यूटर नेटवर्क कितने प्रकार का होता है ?

What is Network in Computer? (नेटवर्क क्या है?)

दो या दो से अधिक computers को जोड़ना ही नेटवर्क कहलाता है. नेटवर्क को जोड़ने के लिए wire और wireless दोनों का इस्तेमाल हो सकता है. नेटवर्क का प्रयोग एक कंप्यूटर से दुसरे कंप्यूटर पर डाटा, इनफार्मेशन, और resources को शेयर करने के लिए किया जाता है.

Network में यदि wire के द्वारा computers को जोड़ा जाता है तो twisted pair cable, Coaxial cable or Fiber Optics Cable का प्रयोग किया जाता है. Wireless में ब्लूटूथ, सॅटॅलाइट, या रेडियो वेव से जोड़ा जाता है.

Network का सबसे बड़ा example internet है जहाँ पर images, विडियो, songs, इत्यादि डाटा को शेयर किया जाता है. एक नेटवर्क में बहुत सारे computers, servers, और devices का प्रयोग होता है जिसकी मदद से हम डाटा को शेयर करते है.

Types of Network

What is Network in Computer and Types of Network

Network को कई पार्ट्स में डिवाइड किया गया है क्योंकि अलग अलग नेटवर्क से उसके size, geographic area, no. of computers से होता है. इसीलिए नेटवर्क को main 3 types में divide किया गया है.

  • LAN
  • MAN
  • WAN

1) LAN (Local Area Network)

जब दो या दो से अधिक computers को एक limited area में connect किया जाता है वो LAN होता है.

इस नेटवर्क में 1000 computers को हम आपस में जोड़ सकते है. LAN को wire connection और wireless कनेक्शन दोनों से ही जोड़ा जाता है.

इस नेटवर्क में cost कम लगती है और speed, सिक्यूरिटी के मामले में इस्तेमाल किया जाता है. Ethernet का प्रयोग इस नेटवर्क में प्रयोग होता है. ये limited area के लिए बेस्ट है क्योंकि limited में इसकी speed बढ़िया होती है.

एक office में इसको document sharing और printing के लिए प्रयोग किया जाता है. Document sharing में होता क्या है. एक central server रहता है जहाँ पे सारे File को रखा जाता है. जिसे कोई employee, file को access कर सकता है.
इस नेटवर्क में जायदा हार्डवेयर की आवश्कता नही है बस hub, switch, adapter, router or ethernet cable की जरूरत पड़ती है.

Advantage of LAN

  • ये एक limited geographic area के लिए है.
  • इस नेटवर्क को आसानी से बनाया जा सकता है.
  • इसमें नेटवर्क की डाटा ट्रांसमिशन speed अधिक होती है.
  • इसे home, office, colleges में इस्तेमाल किया जाता है.

2) MAN (Metropolitan Area Network )

इस नेटवर्क में दो या दो से अधिक local area networks को एक साथ जोड़ते है. ये एक शहर से दुसरे शहर में स्थित computers को जोड़ता है. इस नेटवर्क में जो device का इस्तेमाल करते है वो राऊटर, स्विच, और हब है.

ये नेटवर्क LAN से बड़ा और WAN से छोटा नेटवर्क होता है. इसमें डाटा और इनफार्मेशन को 200 megabyte प्रति सेकंड या इससे अधिक की दुरी तक ले जा सकते है. ये 10km से 100km तक cover करता है. कोई भी बड़ी organization है वो इस नेटवर्क का प्रयोग करता है.

Advantages of MAN

  • ये LAN से ज्यादा geographic area को cover करता है.
  • इसकी ownership पब्लिक और प्राइवेट दोनों होती है.
  • इस नेटवर्क में LAN से खर्चा आता है.
  • इसका रखरखाव मुश्किल होता है.

3) WAN (Wide Area Network)

ये दुनिया का सबसे बड़ा नेटवर्क है इसका area बहुत बड़ा होता है. ये नेटवर्क LANs of LANs से मिलकर बना है. इसमें डाटा को पूरी दुनिया में computers से शेयर कर सकते है और एक सेकंड में किसी भी कंप्यूटर से जोड़ा जा सकता है.

WAN सबसे महंगा नेटवर्क होता है इसमें बहुत सी technology का इस्तेमाल किया जाता है. इस नेटवर्क का benefit है कि इसमें डाटा rate कम है और distance को ज्यादा cover करता है.

WAN का सबसे बड़ा example Internet है. इस नेटवर्क में computers को आपस में स्विच circuit के द्वारा जोड़ा जाता है. ये नेटवर्क न केवल बिल्डिंग, न केवल शहर तक limited होता है बल्कि पुरे संसार को जोड़ने का काम करता है.

Advantage of WAN

  • ये Network wire रहित होता है.
  • WAN नेटवर्क का सबसे बड़ा नेटवर्क है.
  • इस network से डाटा को पूरी दुनिया में transfer कर सकते है.

Wireless Networking

वायरलेस नेटवर्किंग एक ऐसे कंप्यूटर को refer करता है जो किसी भी Cable से connect नही होता |

वायरलेस कनेक्शन में सेंडिंग (Sending) व रिसीविंग (Receiving) को जोड़ने के लिए ठोस माध्यम की आवश्यकता नहीं होती. बल्कि इसमें वायु का उपयोग होता है. वायरलेस का मुख्य उदाहरण है. ब्लूटूथ|

इस नेटवर्क में केबल के ऊपर होने वाले खर्चे पर रोक लगाई जाती है वायरलेस संचार रेडियो संचार पर आधारित होता है|

वायरलेस नेटवर्क के प्रकार

वायरलेस पेन (WPAN)

इस प्रकार के नेटवर्क में device को small एरिया में interconnect किया जाता है  उदाहरण जैसे किसी मोबाइल फ़ोन को लैपटॉप से connect करने के लिए ब्लूटूथ का उसे किया जाता है

वायरलेस लेन (WLAN)

WLAN स्थानिक स्त्रोतों (local resources) को इंटरनेट से जोड़ने के लिए प्रयोग किया जाता है. | WLAN दो कम दूरी पर रखी डिवाइसों के मध्य वायरलेस वर्गीकरण विधि के द्वारा कड़ी को जोड़ता है. एवं इंटरनेट एक्सेस करने के लिए कनेक्शन भी प्रदान करता है. स्पीड स्पेक्ट्रम (Speed Specturm) या OFDM तकनीक के प्रयोग से यूजर स्थानिक निश्चित क्षेत्र में घूमने पर भी कनेक्टेड रखा जाता है|

वायरलेस मेन (WMAN)

वायरलेस मेट्रोपोलिटन क्षेत्र नेटवर्क कई अन्य वायरलेस लेन को जोड़ने का कार्य करता है. WMAN का एक प्रकार WiMAX भी है. जिसका विस्तारण IEEE802.16 ने किया है

वायरलेस वेन (WWAN)

वायरलेस वाइड एरिया नेटवर्क बड़े क्षेत्रों जैसे पड़ोसी कस्बे व शहरों को एक दूसरे से कनेक्ट करने के काम आता है. यह नेटवर्क कार्यालयों की शाखाओं को या इंटरनेट एक्सेस प्रणाली को जोड़ने के लिए प्रयुक्त किए जाते हैं.

Network Devices

यदि दो नेटवर्क को आपस में connect करना हो तो हमे नेटवर्क devices की जरूरत पड़ती है. जैसे Hub, Switch, Router, Repeater, Modem, Bridge. NIC इन सबके बारे में हम विस्तार से जानेंगे.

  • HUB

यह एक basic नेटवर्क device है जो physical लेयर में काम करता है. इसमें devices को आपस में physically जोड़ा जाता है. जहाँ पर ये device प्रयोग की जाती है इसमें Twisted Pair केवल का इस्तेमाल किया जाता है. हब दो प्रकार की होती है – Active Hub and Passice Hub.

  • Switch

ये device भी physical लेयर में वर्क करती है. लेकिन हब से ज्यादा इंटेलीजेंट है इसमें डाटा को filter भी करता है. हब में सिर्फ डाटा पैकेट को फॉरवर्ड किया जाता था but स्विच में forwarding के साथ साथ filter भी किया जाता है.

  • Router

इस device का काम route और traffic को दो नेटवर्क के बीच कण्ट्रोल करने से है. Router को दो नेटवर्क में wire और wireless के माद्यम से जोड़ा जाता है. Router device नेटवर्क लेयर में काम करता है.

  • Bridge

ब्रिज का काम नेटवर्क से sub नेटवर्क को जोड़ने का काम करता है जो एक ही नेटवर्क में होते है. जैसे आप दो कंप्यूटर लैब को ब्रिज की हेल्प से connect कर सकते है.

  • Repeater

ये एक इलेक्ट्रॉनिक device है जो signal की strength को बढ़ाने में help करता है. ये ऐसा device है जो signal को receive करता है और उसे retransmit करता है. signal को lost होने से बचाता है.

  • Network Interface Card

Network Interface Card ऐसे device होते है जो कंप्यूटर को नेटवर्क से connect करते है इस कार्ड को इनस्टॉल करने के बाद रिसोर्स , इनफार्मेशन या कंप्यूटर हार्डवेयर को नेटवर्क पर शेयर कर कर सकते है इनका प्रयोग लोकल या वाइड एरिया नेटवर्क में होता है.

नेटवर्क इंटरफ़ेस कार्ड की मदद से एक कंप्यूटर , दुसरे कंप्यूटर के साथ कम्यूनिकेट करने के लिए एक और चीज की मांग करती है और वो है कम्युनिकेशन का माध्यम. यदि हम वायरलेस नेटवर्क का प्रयोग नहीं कर पा रहे है. तो एक NIC से दुसरे NIC के बीच नेटवर्क लाने के लिए उन्हें आपस में जोड़ना पड़ेगा . इसके लये हमें केबल को आवश्यकता पड़ेगी. आजकल desktop, Laptops, Servers, or Motherboards में nic बिल्ट इन है |

To More content about Network – Click Here

Conclusion

इस पोस्ट में आपने सिखा What is Network in Computer and Types of Network. यदि आपको इस पोस्ट से related कोई doubt है तो आप हमे comment कर सकते है और मैं पूरी कोशिश करूंगा आपके comment का reply करने की.

यदि आपको ये पोस्ट अच्छा लगे तो share करना न भूले. दोस्तों, इस पोस्ट को पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यबाद!

Leave a Comment

error: Content is protected !!