What is Domain Name? How to Work it?

What is Domain Name (in Hindi) ?

दोस्तों नमस्कार, आज के इस Article में हम जानेगें कि Domain Name क्या होता है ? जब भी हम Internet पर Website Search करते है. तो आपका सामना domain name से होता है. आखिर यह Website और Domain name में है. क्या तो मैं आपको यह बता दूँ कि डोमेन नाम की मदद से हम Internet पर वेबसाइट को सर्च कर सकते है।

Domain Name को हम DNS (Domain Naming System) भी कह सकते है. जिससे हम किसी वेबसाइट को इंटरनेट में identify कर सकते है. हर वेबसाइट का एक IP Address भी होता है यह एक numerical एड्रेस होता है।

Domain Name की खोज वर्ष 1983 में “पॉल मौकापेट्रिक्स” ने किया.

Domain के बारे में आप logo जो कुछ हद तक जानकारी जरुर होगी इसलिए मैं आज आपको Doman Name के बारे में पूरी जानकारी देना चाहता हूँ ताकि कोई भी चीज़ domain name के related न रहे सके.

डोमेन नाम एक आसान नाम है जिससे हम आसानी से याद कर सकते है. लेकिन IP address को याद रखना बहुत मुश्किल होता है. Domain Name की मदद से एक या ज्यादा भी ip address को find कर सकते है।

जैसे कि Google.com है यह सैंकड़ो IP को रेफेर करता है.

किसी web browser को वेबसाइट की actual स्थिति के बारे में पता चलता है कि website कौनसे computer server के IP address में स्टोर है.

What is Domain Name

किसी Website का IP Address Check कैसे करे ?

आज के समय में बहुत सी websites और ऑनलाइन tools है जिनका प्रयोग करके आप वेबसाइट के IP Address का पता लगा सकते है. फिर भी मैं आपको website के IP Address को check करने के लिए कुछ आसान से steps बता देता हूँ.

  • सबसे पहले browser open करे.
  • अब URL सेक्शन में www.site24x7.com को टाइप कीजिये.
  • Open होने के बाद tools में जाकर Find IP Address tool को select करे.
  • Then सर्च box में वेबसाइट का नाम लिखकर सर्च करे.
    ये करने के बाद आपके वेबसाइट का IP Address आपके सामने आ जायेगा.

अपने ब्लॉग या वेबसाइट के name के आगे आपने .in, .com, .org, .gov इत्यादि इस प्रकार के types देखे होंगे. but यदि आपको इस सब से बारे में नही पता है तो आप एक category को अच्छे से एक एक करके समझ सकते है.

What is Domain Name System in Hindi

DNS को हम Domain Name System कहते है इसका काम dns को IP address में change करना होता है. जब भी वेबसाइट को open करते है तो उसके domain नाम से ही open करते है.

Domain Name कैसे Work करता है?

What is Domain Name? How to Work it? 1

इन्टरनेट पर जितनी भी वेबसाइट है, वो सब websites server या होस्ट के अंदर स्टोर की हुई होती है. और सभी नाम server के IP address को point की होती है.

Domain नाम के लिए हम browser के URL सेक्शन में domain नाम enter करके डालते है.

इसके बाद DNS का काम होता है कि वो उस नाम को IP address में बदल देता है जिससे server को point किया जाता है.

DNS के कारण ही IP address server से डाटा को लेके आती है और browser में वेब pages के राही दिखा देती है.

Types of Domain Name

Domain Name बहुत टाइप के होते है but आज मैं आपको वो सभी important domain के बारे में discuss करने वाला हूँ जिससे आप domain name को सही तरीके से select कर सको. आज मैं इस आर्टिकल में आपको बताऊँगा कि Domain Name कैसे Select करें.

1)  Top Level Domains

जो Top Level Domain होता है वो डोमेन Extension के नाम से भी जाना जाता है.

Domain नाम की हेल्प से हम अपनी वेबसाइट को रैंक कर सकते है. और Google सर्च इंजन भी इसको importance देता है. ये बहुत ज्यादा seo friendly है.

Top Domain Name

Top Level Domain की value सबसे ज्यादा होती है क्योंकि google और दुसरे सर्च इंजन भी इसको ज्यादा priority देते है. कोई भी domain नाम हो वो हर top level domain नाम के साथ ही खत्म होता है

TLD हम इसलिए create करते है ताकि हमारी वेबसाइट पर ज्यादा से ज्यादा लोग जुड़े और ज्यादा लोग हमारे वेबसाइट के articles को read करे.
क्योंकि जितनी ज्यादा traffic होगी उतना ही आप अपनी वेबसाइट से पैसे कमा पायोगे.

Top Level Domain होने से आपकी website जल्दी ही सर्च इंजन पर rank कर जाती है. Google Adsense की approval भी जल्दी ही मिल जाती ह.

इस तरह की वेबसाइट में SEO करना easy है दूसरी domain level के तुलना में.

कुछ ऐसे example जो top level domain को खरीद सकता है.

  • .Com (Commercial)
  • .net (Network)
  • .Org(Organization)
  • .edu(Education)
  • .gov(government)
  • .biz(business)
  • .info(information)

जैसे :-  www.bloggerkey.Com,   www.Technicalpassion.com, haryana.gov.in

2)  Country Code Top Level Domains

इस डोमेन का इस्तेमाल हम विशेष country को ध्यान में रखकर करते है

ये देश से 2 लैटर ISO कोड के आधार पर नामित होता है. domain की जानकारी होने के बाद आप ctld domain को देखकर बता सकते है कि कौनसे देश से domain है.

Example :- .in एक भारतीय domain है इसे केवल भारतीय लोग ही access कर सकते है. कुछ CTLD domain और भी जो निचे दिए गये है-

जैसे कि :-

  • .us (United States)
  • .in (India)
  • .pk(Pakistan)
  • .ru(Russia)
  • .br (Brazil)

What is SubDomain Name

यह भी domain की तरह ही दिखाई देता है. जब हम TLD Domain खरीद लेते है तो हमे subdomain खरीदने की जरूरत नहीं पड़ती।

SubDomain उसका ही एक Part है. जैसे की मेरा Domain Name है. www.bloggerkey.com और इसे मैं blog.bloggerkey.com में भी divide कर सकता हूँ और यह एकदम फ्री है।

एक Important चीज़ जो American Servers होते है. वो Three letter वाले Top Level Domain यूज़  करते है(“.com, .edu”) और दूसरे देश 2 Letter का इस्तेमाल करते है (“.in, .au, .ca”).

इसे Third Level domain भी कहाँ जाता है. यह TLD का एक छोटा सा हिस्सा है.

जब हम blogger में भी domain बनाते है तो blogger हमे free में subdomain के रूप में वेबसाइट देता है. जैसे मेरा एक subdomain blogger में भी है- topbloggerkey.blogspot.com

जहाँ पर topbloggerkey subdomain कहा जायेगा और जो blogspot है वो DNS होगा.
जैसे आपने देखा होगा google भी अपने subdomain main domain के साथ connect करके रखता है.

कुछ Tips एक अच्छा Domain खरीदने के लिए.

  • Domain Name हमेशा Short होना चाहिए तांकि logo को याद रखने ,टाइप करने, और बोलने में आसानी हो.
  • अपने Domain Name में कभी भी Hypen(-) and Numbers का प्रयोग करने की कोशिश न करें.
  • जैसा आपको पता होगा इन्टरनेट पर जो domain है उसे हम रजिस्टर नही कर सकते आपको एक अलग नाम से domain select करना होगा.
  • आप हमेशा Top Level Domain को ही ले जिससे पूरी दुनिया में लोग पहचानते हो.
  • Domain Name हमेशा आप जो भी आप ब्लॉग बनाना चाहते हो जिस टॉपिक पर उसी के रिलेटेड होना चाहिए.

Top Domain Name Service Provider

यदि आप अपने पर्सनल या Business के लिए वेबसाइट create करना चाहते हो तो आपको एक अच्छे domain name service provider की जरुरत पड़ेगी.

इसीलिए आज मैं कुछ Top Domain Provider की लिस्ट बता रहा हूँ. जिससे आप इनमे से select करके अपना डोमेन नाम purchase कर सकते हो. 

  1. Siteground
  2. HostGator
  3. A2Hosting
  4. BlueHost
  5. Reseller Club
  6. Godaddy
  7. Hostinger

Conclusion :

ऊपर दिए गए आर्टिकल से यही निकलकर आता है. की आप डोमेन नाम हमेशा छोटा रखने की कोशिश करें. जिससे आसानी से याद हो सके

उम्मीद करता हूँ आपको यह आर्टिकल पसंद आया होगा यदि आपको फिर भी doubt आये तो आप हमे कमेंट करके पूछ सकते हो. मैं कोशिश करूंगा आपके comment का रिप्लाई करने की. but यदि आपको ये पोस्ट अच्छा लगे तो please शेयर करना न भूले.

Leave a Comment

error: Content is protected !!