Email क्या है ? What is Email in Hindi

आज के इस आर्टिकल में हम मुझे जानेंगे कि ईमेल क्या है?(What is Email) और ईमेल अकाउंट कैसे क्रिएट करते हैं और साथ ही साथ यह भी जानेंगे कि ईमेल बनाने के क्या फायदे हैं.

दोस्तों आज के इस टाइम में शायद ही कोई कंप्यूटर यूजर होगा जो ईमेल का प्रयोग ना करता हो, आप सभी ईमेल के बारे में जरूर जानते होंगे लेकिन इसमें कुछ बातें ऐसी हैं जो आप नहीं जानते जिन्हें आप के लिए जाना बेहद ही जरूरी है.

आज इस आर्टिकल में हम Email के बारे में पूरी जानकारी से जानेंगे तो प्लीज इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़े ताकि आपको ईमेल के बारे में पूरी तरीके से पता लग सके तो चलिए.

ईमेल क्या है ? (What is Email)

Emailका पूरा नाम इलेक्ट्रॉनिक मेल है जिसके द्वारा इंटरनेट का प्रयोग करके किसी भी मैसेज को प्राप्त करने और भेजने के लिए होता है आजकल ईमेल का प्रयोग सभी जगह पर हो रहा है इसे अब सभी ने अधिकारिक तरीका बना लिया है.

Email का प्रयोग मुख्य रूप से टेक्स्ट इमेजस डाक्यूमेंट्स और किसी दूसरे तरह की फाइल बेचने और रिसीव करने के लिए किया जाता है यदि आप किसी भी व्यक्ति को ऑनलाइन कोई पत्थर भेजना चाहते हैं तो आपको उस व्यक्ति का ईमेल एड्रेस पता होना चाहिए.

Email इंटरनेट में सबसे अधिक प्रयोग की जाने वाली सर्विस है यह एक ऐसा इलेक्ट्रॉनिक संदेश है जो किसी भी नेटवर्क से जुड़े अलग-अलग कंप्यूटरों के बीच सेंड और रिसीव किया जाता है यदि कोई व्यक्ति हजारों मील दूर भी हो तो हम ईमेल के द्वारा कोई भी डाक्यूमेंट्स इमेज फाइल्स बड़ी आसानी से भेज सकते हैं.

Email एक नॉर्मल लेटर की तरह ही होता है जिस प्रकार हम नॉर्मल लेटर में प्राप्त करने वाले का नाम पता संदेश और नीचे भेजने वाले का नाम लिखते हैं ठीक उसी प्रकार हम इंटरनेट का प्रयोग करके ईमेल में रिसीवर का एड्रेस और मैसेज लिखते हैं.

ईमेल or नॉर्मल लेटर में इतना ही अंतर होता है कि एक नॉर्मल लेटर को कागज पर लिखा जाता है और Email को हम कंप्यूटर पर लिखते हैं एक नॉर्मल लेटर को भेजने के लिए हम नजदीक के पोस्ट ऑफिस में जाकर पोस्ट करते हैं लेकिन ईमेल में हम कंप्यूटर का प्रयोग करके कुछ ही सेकंड में ईमेल सेंड कर देते  हैं.

ईमेल का इतिहास (History of Email)

Email का इतिहास 50 वर्ष से भी पुराना है ईमेल का पहला उदाहरण 1965 में एमआईटी में कंप्यूटर पर मेल बॉक्स नाम के एक प्रोग्राम में पाया गया.

इस कंप्यूटर के यूजर्स प्रोग्राम के साथ अन्य यूजर्स के लिए कंप्यूटर पर मैसेज छोड़ सकते थे जो भी अगली बार कंप्यूटर पर लॉगिन करेंगे तो इन्हें वो देख सकते थे but  लेकिन 1969 में अमेरिकी रक्षा विभाग ने ARPANET का विस्तार किया जो ऑर्गेनाइजेशन के अंदर कम्युनिकेशन के उद्देश्य के लिए विभाग में कई कंप्यूटरों को जोड़ने का काम करता था 29 अक्टूबर 1969 को ARPANET में पहला मैसेजिंग कंप्यूटर से कंप्यूटर पर भेजा गया था.

सबसे पहले Email मैसेज भेजने का श्रेय रे टॉमलिंसन को जाता है ऐसा कहा जाता है कि उन्होंने 1971 में पहला ईमेल सिस्टम बनाया था.

उन्होंने उसमें @ sign  का उपयोग करके यूजरनेम को मेल सर्वर के साथ लिंक किया गया था आमतौर पर ईमेल मैसेज को ASCII (अमेरिकन कोड फॉर इंफॉर्मेशन एक्सचेंज) में इनकोड किया जाता है.

ई-मेल को स्टोर करने के लिए और एक्सेस करने के लिए Email सर्विस का उपयोग करना होता है.

1980 के दशक तक इंटरनेट की सबसे पहली अवस्था आईएसपी ने पूरे विश्व में लोगों को कनेक्ट करना शुरू कर दिया था 1993 तक इलेक्ट्रॉनिक मेल शब्द को ईमेल द्वारा बदला गया और इंटरनेट का उपयोग अधिक शुरू हो गया था.

अगले ही कुछ वर्षों बाद अमेरिका ऑनलाइन एक को मेल हॉटमेल और जग्गू नहीं भी ई-मेल को एक नया आकार दिया 1990 के अंत तक इंटरनेट का सर जॉब पूरी तरीके से किया गया.

1990 के बाद इंटरनेट का प्रयोग बहुत ज्यादा होने लगा जिसमें 1997  तक दुनिया भर में 55 मिलियन यूजर से बढ़कर 1999 में 400 तक मिलियन हो गया.

ई-मेल कितने प्रकार के होते हैं (Types of Emails)

Types of Email

अपने कस्टमर को भेजने के लिए टॉप 5 प्रकार के ईमेल जहां दिए गए हैं

  • न्यूज़लेटर इमेज
  • माइलस्टोन ईमेल
  • वेलकम ईमेल क्यूरेटेड ईमेल
  • न्यू प्रोडक्ट घोषणा
  • इमेज समीक्षा अनुरोध ईमेल
  • विशेष पेशकश इमेज इत्यादि

Email बनाने के लिए किन चीजों की जरूरत है (Requirement to Create E-Mail ID)

ईमेल आईडी बनाने के लिए किन-किन चीजों की जरूरत पड़ती है जैसा कि आपको पता है कि ईमेल सर्विस बिल्कुल फ्री है और ईमेल भेजने और प्राप्त करने के लिए एक भी पैसा खर्च नहीं करना पड़ता बस हमें कुछ जरूरी ईमेल टूल्स की जानकारी होना चाहिए जिनके नाम मैं नीचे बताने जा रहा हूं

  • सबसे पहले आपके पास एक कंप्यूटर का स्मार्टफोन होना चाहिए
  • दूसरा इंटरनेट कनेक्शन
  • तीसरा Email प्रोवाइडर
  • चौथा थोड़ा सा डिजिटल के बारे में ज्ञान होना चाहिए

बेस्ट ईमेल प्रोवाइडर (Best Email Service Provider)

जीमेल (Gmail) –  जीमेल दुनिया का सबसे ज्यादा प्रयोग होने वाला ईमेल प्रोवाइडर है यह एक गूगल की ही सर्विस है इसलिए इसका उपयोग दुनिया भर में सभी इंटरनेट यूजर के अलावा बड़े से बड़े बिजनेस ओर ऑर्गेनाइजेशन प्रयोग करते हैं इसे बनाने के लिए कोई भी पैसा खर्च नहीं करना पड़ता.

Yahoo Mail !   याहू मेल सर्विस भी हमे Email की फैसिलिटी देती है इसके फीचर्स और सर्विस आज भी बहुत काम के हैं इसलिए याहू मेल भी आपके लिए ईमेल आईडी बनाने के लिए सबसे बढ़िया टूल है.

Outlook – माइक्रोसॉफ्ट द्वारा बनाया गया यह भी एक Email सर्विस प्रोवाइडर है ज्यादातर बिजनेसमैन और ऑर्गेनाइजेशन इस आउटलुक सॉफ्टवेयर का प्रयोग करती हैं आउटलुक आपको पर्सनल Email आईडी बनाने की एक फ्री सुविधा भी देता है. आउटलुक का प्रयोग करने के लिए हमारे कंप्यूटर में माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस का होना जरूरी है तभी हम आउटलुक सॉफ्टवेयर का प्रयोग कर सकते हैं.

Rediffmail – यदि आप अपने दोस्तों से अलग दिखना चाहते है तो आप rediffmail साइट  का इस्तेमाल कर सकते है. इसमें बाकि सेवाएं लगभग समान ही है बस पीछे का नाम बदल जाता है.

लिंक इस प्रकार है –

  1. Gmail (www.gmail.com)
  2. Yahoo! Mail (https://login.yahoo.com/)
  3. AOL Mail (https://login.aol.com/)
  4. Mail (https://www.mail.com/int/)
  5. iCloud (https://www.icloud.com/mail)
  6. Rediff Mail (https://mail.rediff.com/)
  7. Yandex (https://mail.yandex.com/)

जीमेल में ईमेल id कैसे create करते है (How to Create Email Id in Gmail)

Email आईडी क्रिएट करने के लिए सबसे पहले आपको ईमेल सर्विस का सिलेक्शन करना होगा वैसे तो ईमेल सर्विस प्रोवाइड करने के लिए ऐसी बहुत सी कंपनी है जो ईमेल की सर्विस देती हैं लेकिन आज के टाइम में जीमेल सबसे पॉपुलर ईमेल सर्विस है जिससे आप बड़ी आसानी से अपना Email अकाउंट क्रिएट कर सकते हैं अब हम यह जानेंगे कि Email आईडी को क्रिएट करने के लिए क्या-क्या स्टेप्स हैं तो आप नीचे दिए गए टिप्स को फॉलो करें.

  1. सबसे पहले आपकी कंप्यूटर में जो भी ब्राउज़र है उसको ओपन कर ले और एड्रेस बार में www.gmail.com एंटर करें।
  2. अब क्रिएट अकाउंट पर क्लिक करें जैसे ही आप क्रिएट अकाउंट पर क्लिक करेंगे तो साइनअप फॉर्म ओपन हो जाएगा।
  3. इसमें आपसे कुछ जानकारी मांगी जाएगी जैसे कि First Name, Last Name, Username, पासवर्ड इत्यादि आप उन फील्ड को अच्छे तरीके से भर दे और नेक्स्ट पर क्लिक कर दें
  4. अगले स्टेप्स में आप अपना फोन नंबर दे जिससे आपकी आईडी को वेरीफाई किया जाएगा इसलिए आप सही नंबर डालें और नेक्स्ट पर क्लिक कर दें
  5. आपके मोबाइल पर एक वेरिफिकेशन कोड आएगा जो आपने वहां पर भरना है जिससे आपका मोबाइल verify हो जाएगा।
  6. अगले स्टेप्स में आपको कुछ पर्सनल इंफॉर्मेशन देनी होती है जैसे की बर्थ डेट और gender  इत्यादि फिर आप नेक्स्ट पर क्लिक कर दें
  7. उसके बाद गूगल की टर्म्स ऑफ़ सर्विस एंड प्राइवेसी पॉलिसी को रिव्यू कर ले और फिर I’M in पर क्लिक कर दें जिससे आपका जीमेल अकाउंट क्रिएट हो जाएगा।

यह गूगल की बिल्कुल फ्री Email सर्विस है जिसका आप लाभ उठा सकते हैं.

Components of Email

अब हम ई-मेल के कुछ कॉम्पोनेंट्स के बारे में जानेंगे जो आपके लिए जाना बेहद जरूरी है क्योंकि जब भी हम किसी को Email सेंड या रिसीव करना होता है तो हमें इसके बारे में जानकारी अवश्य होनी चाहिए वैसे Email का जो स्ट्रक्चर होता है काफी easy होता है लेकिन कुछ ईमेल सर्विस ऐसे हैं जिनका लेआउट जीमेल के लेआउट से अलग है but आमतौर पर एक ईमेल के दो इंपॉर्टेंट पार्ट होते हैं Header and Body.

Email एड्रेस हमें यह जानकारी देता है कि मेल भेजने वाले और प्राप्त करने वाले व्यक्ति का ईमेल एड्रेस और मेल किस बारे में किस तरह की जानकारी है एक ईमेल के अंडर में निम्नलिखित part  हो सकते हैं.

 From :  इस पार्ट में Sender यानि कि आपका Email address आएगा.

To :  इस फील्ड में आप जिसको message भेजना चाहते है तो Email address डालना होता है. आप इस फील्ड में एक से अधिक Email address भी डाल सकते है.

CC: इसका मतलब है Carbon Copy. यह फील्ड ऑप्शनल होता है इस फील्ड में आप उन persons के Email address डालेंगे जिन्हें आप ईमेल प्राप्तकर्ता को send की गयी ईमेल की copy देनी हो.

BCC : इसका मतलब है Blind Carbon Copy. यह फील्ड भी ऑप्शनल है. ये CC फील्ड की तरह ही काम करता है. but इसमें प्राप्तकर्ता को ये नही पता चलता की अपने मेल की copies किसे भेजी है.

Subject : इस फील्ड में आप वो लिखेंगे कि मेल किस regarding भेजी जा रही है.

Body

इस पार्ट में आप जो भी कंटेंट जिस व्यक्ति को भेजना चाहते हैं means  जो भी मैसेज भेजना है वह आप इस body पार्ट में लिखेंगे।इस part  में नीचे आपको अटैचमेंट के काफी विकल्प दिए गए हैं जिनका प्रयोग करके आप उस Email के साथ विभिन्न प्रकार की फाइलें जैसे इमेज, वीडियो, ऑडियो इत्यादि attach कर  सकते हैं यदि आप अपने मैसेज में कोई फॉर्मेटिंग करना चाहते हैं तो वह भी आप नीचे दिए गए विकल्पों में से सिलेक्ट करके कर सकते हैं.

जीमेल में ईमेल कैसे भेजते है (How to Send Email in Gmail Account)

अब हम जीमेल का प्रयोग करके Email किसी को सेंड कैसे करते हैं इस बारे में सीखते हैं.

जीमेल गूगल की एक फ्री सर्विस है जिसका इस्तेमाल जीमेल की वेबसाइट या मोबाइल एप्लीकेशन किसी के लिए भी कर सकते हैं.

  • सबसे पहले आपने अपने ब्राउज़र पर जा करके जीमेल की साइट को ओपन करना है.
  • उसके बाद signin जा Log in बटन पर क्लिक करें और अपना ईमेल एड्रेस और पासवर्ड डालकर के लॉगिन कर लीजिए.
  • आपने लेफ्ट साइड में सबसे ऊपर कंपोज बटन पर क्लिक करना है जिससे न्यू मैसेज की एक विंडो ओपन होगी जिसमें आपने TO फील्ड में किसी दूसरे व्यक्ति का ईमेल एड्रेस डालना है जिसको आप भेजना चाहते हैं.
  • जो भी आप मैसेज लिखना चाहते हैं वह बॉडी पार्ट में लिखें उसके बाद आपने नीचे दिए गए send बटन पर क्लिक कर दें जिससे आपका ईमेल उस व्यक्ति तक कुछ ही सेकंड में पहुंच जाएगा.

ईमेल के फायदे क्या क्या है (Benefits of Email Service)

  • email सुचनायो के आदान प्रदान और शेयर करने का बेहद ही उपयोगी साधन है.
  • सबसे बड़ी बात कि यह एक free service है जिसे आप जब चाहे प्रयोग कर सकते है.
  • ईमेल भेजना और प्राप्त करना बहुत ही सरल है. आप अपना message कंप्यूटर में टाइप कर सकते है तो तुरंत ही प्राप्तकर्ता को भेज सकते है.
  • ईमेल उस व्यक्ति को जिसको आप भेजना चाहते है उसे तुरंत ही पहुंच जाती है क्योंकि इसकी स्पीड बहुत अधिक होती है.
  • ईमेल के record को आप अपने कंप्यूटर में store करके भी रख सकते है.
  • इलेक्ट्रॉनिक होने के कारण ईमेल भेजने और प्राप्त करने में कागज भी नष्ट नही होता.

Conclusion

इस पोस्ट में आपने सिखा What is Email and benefits of Email मतलब email क्या है और ये कैसे काम करता है or इसके क्या क्या फायदे है.

यदि  आपको ये पोस्ट अच्छी लगी तो प्लीज इस पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा शेयर करे और यदि आपको इस पोस्ट में कोई भी doubt है. तो आप हमें comment कर सकते है. तो मैं आपके comment का reply करने की जरुर कोशिश करूँगा but यदि आपको ये पोस्ट अच्छी लगे तो प्लीज like और share जरुर करें |

You can also read this article in the English Language – Click Here

Leave a Comment

error: Content is protected !!